Sunday, 7 October 2012

मिलावट ( कविता ) डॉ लोक सेतिया

मिलावट ( कविता ) डॉ लोक सेतिया

यूं हुआ कुछ लोग अचानक मर गये
मानो भवसागर से सारे तर गये।

मौत का कारण मिलावट बन गई
नाम ही से तेल के सब डर गये।

ये मिलावट की इजाज़त किसने दी
काम रिश्वतखोर कैसा कर गये।

इसका ज़िम्मेदार आखिर कौन था
वो ये इलज़ाम औरों के सर धर गये।

क्या हुआ ये कब कहां कैसे हुआ
कुछ दिनों अखबार सारे भर गये।

नाम ही की थी वो सारी धर-पकड़
रस्म अदा छापों की भी कुछ कर गये।

शक हुआ उनको विदेशी हाथ का
ये मिलावट उग्रवादी कर गये।

सी बी आई को लगाओ जांच पर
ये व्यवस्था मंत्री जी कर गये। 

No comments: