Friday, 12 October 2012

आज हैं अपराधी बनेगें कल नेता ( व्यंग्य कविता ) शून्य ( डॉ लोक सेतिया )

हर बात को देखने का होता है ,
सबका अपना अपना नज़रिया,
किसी को कुछ भी लगे ,
हमको तो ,
भाता है अपना सांवरिया।
किसलिए हो रहे हैं ,
इन अपराधियों को देख कर आप हैरान ,
आने वाले दिनों में यही ,
बढ़ाएंगे देश की देखना शान।
अगर नए नए अपराध नहीं होंगे ,
अपराधी न होंगे ,
तो मिलेंगे कैसे आपको भविष्य के ,
संसद और विधायक।
शासन करने ,
राज करने के लिए ,
नहीं चाहिएं सोचने समझने वाले ,
राजा बनते हैं हमेशा ही ,
मनमानी करने वाले !
सब को हक है ,
राजनीती करने का लोकतंत्र में ,
भ्रष्टाचार का विरोध कर  ,
नहीं जीत सकता कोई कभी चुनाव ,   
अपराध जगत है ,
आम लोगों के लिए सत्ता की एक नाव।
जिनके बाप दादा नहीं हों नेता अभिनेता  ,
उनको बिना अपराध कौन टिकट देता ,
देखो आज आपको ,
लग रहा जिनसे बहुत डर ,
कल दिया करोगे उनको ,
रोज़ खुद जीने के लिए कर ,
सरकार कैसे मिटा दे ,
भला सारे अपराध देश से ,
लोकतंत्र में नेताओं की बढ़ गई है ज़रूरत ,
नेता बन या तूं भी या फिर जा मर।
भ्रष्टाचार और अपराध का ,
राजनीती से है पुराना नाता  ,
एक है पाने वाला दूसरा है उसका दाता ,
समझ लो इनके रिश्तों को आप भी आज ,
बताओ इनमें  कौन है ,
किसका बाप ,
और कौन किसकी औलाद। 

No comments: