Saturday, 15 September 2012

अनबुझी इक प्यास हैं ( ग़ज़ल ) डॉ लोक सेतिया "तनहा"

अनबुझी इक प्यास हैं ( ग़ज़ल ) डॉ लोक सेतिया "तनहा"

अनबुझी इक प्यास हैं ,
बन चुके इतिहास हैं।

जब बराबर हैं सभी ,
कुछ यहां क्यों ख़ास हैं।

जुगनुओं को देख लो ,
रौशनी की आस हैं।

कह रहा खुद आसमां ,
हम जमीं के पास हैं।

नाम उनका है खिज़ा ,
कह रहे मधुमास हैं।
       
लोग हर युग में रहे ,
झेलते बनवास हैं।

हादिसे आने लगे ,
अब हमें कुछ रास हैं।

बेटियां बनने लगी ,
सास की अब सास हैं।

कह रहे "तनहा" किसे ,
हम तुम्हारे दास हैं। 

No comments: