Wednesday, 22 April 2020

सभी ख़ौफ़ दिल से मिटा कर तो देखो ( ग़ज़ल ) डॉ लोक सेतिया "तनहा"

        सभी ख़ौफ़ दिल से मिटा कर तो देखो ( ग़ज़ल ) 

                                 डॉ लोक सेतिया "तनहा" 

सभी ख़ौफ़ दिल से मिटा कर तो देखो 
कभी हौंसला आज़मा कर तो देखो। 

ख़ुदा के भरोसे रहे हो हमेशा 
भरोसा खुदी पर जगा कर तो देखो। 

भंवर और तूफ़ान से अब डरो मत 
किनारे पे कश्ती लगा कर तो देखो। 

सिकंदर कलंदर सभी मिट गए हैं 
है जीना अगर सर उठाकर तो देखो।

घुटन खत्म ऐसे नहीं कर सकोगे
रुके जितने आंसू बहा कर तो देखो।

है वादा तुम्हारे लिए जां भी देंगे
मुझे दोस्तो आज़मा कर तो देखो।

गिले और शिकवे सभी छोड़ "तनहा"
खताएं जफ़ाएं भुला कर तो देखो।

No comments: