Sunday, 17 November 2019

पुरानी मुहब्बत की तलाश में ( नज़्म ) डॉ लोक सेतिया

     पुरानी मुहब्बत की तलाश में ( नज़्म ) डॉ लोक सेतिया 

तुम मेरी महबूबा हो ,
मुझे प्यार है तुमसे दिल्ली। 

कभी नहीं भूलती पहली मुहब्बत ,
मेरा दिल हमेशा यहीं कहीं रहा है ,
माना 45 साल बीत गए हैं बिछुड़े ,
जैसे कोई मुसाफिर भटक गया हो ,
अपनी मंज़िल की राह से किसी दिन ,
और भूल गया हो राह अपने घर की ,
मगर याद अपनी मुहब्बत की साथ ,
लेकर करता रहा लौटने की दुआएं। 

फिर ढूंढता फिरता हूं बिछुड़े कारवां ,
के धुंधले से कदमों के निशानों को अब ,
इधर भी उधर भी चला था जिधर भी ,
वो अचानक आना यहीं रह जाना मेरा ,
तुम भूल गईं हो नहीं भुलाया है मैंने ,
कहीं बहुत दूर से कितनी बार तुझको ,
देकर आवाज़ दिल्ली बुलाया है मैंने। 

जाने क्यों बदनाम करते हैं तुझको लोग ,
बदल गई है पुरानी ग़ालिब की दिल्ली ,
मुझे अभी तक तेरी हर गली कूचे में ,
हवा में भीनी भीनी पहचानी खुशबू वो ,
कहीं न कहीं से कोई झौंका बनकर के ,
सांसों को महकाती है ताज़गी देकर के ,
लगता है फिर से जीने लगा हूं जैसे ,
मिलते हैं दो आशिक़ कहानी में आखिर। 

मुझे अपनी आगोश में फिर से ले लो ,
गले से लगा लो अपना बना लो तुम ,
माना बाल मेरे सफ़ेद हो गए हैं और ,
ढलती उम्र के निशां चेहरे पे उभर आए ,
अपनी बाहें पसारे सबको अपनाती रही ,
तुम मेरी चाहत हो जानती हो ये बात ,
कोई कैसे समझे किस किस को समझाए ,
वो दिन वो समां था कितना सुहाना जब ,
जवानी के पल साथ साथ हमने बिताए। 

तुम्हीं मेरी मंज़िल हो मेरी जान दिल्ली ,
मुझे कोई गैर अजनबी मत समझ लेना ,
तेरी मिट्टी की खुशबू अभी तक भी मुझे ,
वही बारिश के मौसम सी महकती हुई सी ,
धड़कन में नाम तेरा दोहराता रहा हूं मैं ,
कितनी बार आने की आरज़ू में करीब आ ,
बिछुड़ता रहा  दूर तुझसे जाता रहा हूं मैं।

पर मेरा आखिर ठिकाना है मेरी दिल्ली ,
तू रूठी हुई है तुझको मनाना है दिल्ली ,
नहीं बिन तेरे मुझे कोई  भाया है दिल्ली ,
ये सच है यकीं तुझे दिलाया है दिल्ली ,
कोई नहीं मैंने बहाना बनाया है दिल्ली ,
लग रहा फिर तुम्हीं ने बुलाया है दिल्ली।


No comments: