Thursday, 30 August 2018

मौत की शायरी ज़िंदगी की कविता ( तिरछी चाल ) डॉ लोक सेतिया

मौत की शायरी ज़िंदगी की कविता ( तिरछी चाल ) डॉ लोक सेतिया 

       उन्होंने तय कर दिया है विषय अब सबको इस पर बात करनी होगी। हम अपनी मौत का सामान ले चले। की उसने मेरे कत्ल के बाद कत्ल से तौबा। ज़िंदगी और मौत ऊपर वाले के हाथ में है जाहपनाह , कब कौन कैसे उठेगा कोई नहीं जनता। हम सब तो रंगमच की कठपुतलियां हैं जिनकी डोर ऊपर वाले के हाथ में है। हाहाहाहाहा बाबू मोशाय। ये फ़िल्मी डायलॉग लिखने पड़े शुरुआत करने को भूमिका बनानी है। मौत तू इक कविता है , मुझसे वादा है इक कविता का मिलेगी मुझको। ग़ालिब को कैसे भूल सकते हैं। मौत का एक दिन मुआयन है नींद क्यों रात भर नहीं आती। तेरे वादे पे सितमगर अभी और सब्र करते अगर अपनी ज़िंदगी का हमें ऐतबार होता। असली मुकदमा किसी और के कत्ल होने का है , कितने साल हो गए फैसला अटका पड़ा है। कत्ल हुआ या किया गया कैसे साबित हो जब अभी लाश भी बरामद नहीं हुई है लोकतंत्र की। वो कब ज़िंदा था कोई गवाह भी नहीं मिलता गवाही देने को कि हां मैंने देखा था उसे भला चंगा था। अधमरा तो बहुत लोगों ने बताया कि देखा था मगर लगता था मरने को है। कोई कहता है ख़ुदकुशी की होगी सब तो आशिक़ हैं भला कौन कत्ल करेगा लोकतंत्र को। हम पुजारी हैं सभी नेता सब दल वाले , उसी की रोटी खाते हैं वही रोज़गार है हम उसे कैसे मरने देंगे। जीने भी नहीं देते मरने भी नहीं देते। दुश्मन ए जां हैं। चलो बीच में मैं अपनी कुछ रचनाएं भी शामिल कर लेता हूं , मौका है दस्तूर भी है। 

उन्हें कैसे जीना , हमें कैसे मरना। 

उन्हें कैसे जीना   ,  हमें कैसे मरना ,
ये मर्ज़ी है उनकी , हमें क्या है करना।
सियासत हमेशा यही चाहती है ,
ज़रूरी सभी हुक्मरानों से डरना। 
उन्हें झूठ कहना , तुम्हें सच समझना ,
कहो सच अगर तो है उनको अखरना। 
किनारे भी उनके है पतवार उनकी ,
हमें डूबने को भंवर में उतरना। 
भला प्यास सत्ता की बुझती कहीं है ,
लहू है हमारा उन्हें जाम भरना। 
कहीं दोस्त दुश्मन खड़े साथ हों , तुम ,
नहीं भूलकर भी उधर से गुज़रना। 
सभी लोग हैरान ये देख " तनहा "
हसीनों से बढ़कर है उनका संवरना। 

मेरे दुश्मन मुझे जीने की दुआ न दे। 

मेरे दुश्मन मुझे जीने की दुआ न दे ,
मौत दे मुझको मगर ऐसी सज़ा न दे।

उम्र भर चलता रहा हूं शोलों पे मैं ,
न बुझा इनको ,मगर अब तू हवा न दे।

जो सरे आम बिके नीलाम हो कभी ,
सोने चांदी से तुले ऐसी वफ़ा न दे।

आ न पाऊंगा यूं तो तिरे करीब मैं ,
मुझको तूं इतनी बुलंदी से सदा न दे।

दामन अपना तू कांटों से बचा के चल ,
और फूलों को कोई शिकवा गिला न दे।

किस तरह तुझ को सुनाऊं दास्ताने ग़म ,
डरता हूं मैं ये कहीं तुझको रुला न दे।

ज़िंदगी हमसे रहेगी तब तलक खफा ,
जब तलक मौत हमें आकर सुला न दे।  

ख़ुदकुशी आज कर गया कोई। 

ख़ुदकुशी आज कर गया कोई ,
ज़िंदगी तुझ से डर गया कोई।

तेज़ झोंकों में रेत के घर सा ,
ग़म का मारा बिखर गया कोई।

न मिला कोई दर तो मज़बूरन ,
मौत के द्वार पर गया कोई।

खूब उजाड़ा ज़माने भर ने मगर ,
फिर से खुद ही संवर गया कोई।

ये ज़माना बड़ा ही ज़ालिम है ,
उसपे इल्ज़ाम धर गया कोई।

और गहराई शाम ए तन्हाई ,
मुझको तनहा यूँ कर गया कोई।

है कोई अपनी कब्र खुद ही "लोक" ,
जीते जी कब से मर गया कोई।   

जश्न यारो मेरे मरने का मनाया जाये। 

जश्न यारो , मेरे मरने का मनाया जाये ,
बा-अदब अपनों परायों को बुलाया जाये।

इस ख़ुशी में कि मुझे मर के मिली ग़म से निजात ,
जाम हर प्यास के मारे को पिलाया जाये।

वक़्त ए रुखसत मुझे दुनिया से शिकायत ही नहीं ,
कोई शिकवा न कहीं भूल के लाया जाये।

मुझ में ऐसा न था कुछ , मुझको कोई याद करे ,
मैं भी कोई था , न ये याद दिलाया जाये।

दर्दो ग़म , थोड़े से आंसू , बिछोह तन्हाई ,
ये खज़ाना है मेरा , सब को दिखाया जाये।

जो भी चाहे , वही ले ले ये विरासत मेरी ,
इस वसीयत को सरे आम सुनाया जाये।   
         लोग क्या क्या नहीं कहते हैं। कोई कहता है देश की वास्तविकता से ध्यान भटकाना है। रोज़ कोई नया विषय देते हैं आज इस पर बात होगी , बेखबर आज की बड़ी खबर है क्या आपको इसकी खबर है। नोटबंदी को आप असफल बताओ उनकी सफलता है असफलता में भी। कालिख धुल गई सब काला धन सफ़ेद हो गया कमाल है कि नहीं। दाग़दार सब गंगा स्नान करते रहे गंगा और मैली हुई तो क्या दाग़ साफ़ हो गए हैं। चेहरे पर एक भी दाग़ नहीं है कोई काला तिल भी नहीं जाकर टीका लगाओ कहीं बुरी नज़र नहीं लगे। सच इस से पहले किसी पीएम को देखा ऐसे सजा संवरा देश ने सत्तर साल में , क्या ये नया इतिहास नहीं रचा गया है। बुलंदी पर जाकर गिरने का डर फिसलने का डर होता ही है। मैं आज तक इस राज़ को नहीं समझ पाया कि जो मौत मांगते हैं उनको मौत नहीं मिलती और जो जीना चाहते हैं मौत उनको धर दबोचती है। झूठ नहीं कहता मुझे वास्तव में लगता है मौत तो बहुत खूबसूरत होगी जो ज़िंदगी की सभी परेशानियों से मुक्ति दिलवा देगी। जब आएगी तो स्वागत करना है , बड़ी देर कर दी मेहरबां आते आते। कल इक खबर थी झूठी या सच्ची नहीं मालूम , कोई 182 साल का है वाराणसी में मौत जिसके घर का पता भूल गई है। 
      जब हम यकीन करते हैं कि कौन कब कैसे मरेगा ऊपर वाले की मर्ज़ी है तो बेकार घबराते हैं। गीता की बात समझें तो मौत है ही नहीं आत्मा अमर है और जन्म लेती रहती है। किसी शायर के कुछ लाजवाब शेर अर्ज़ हैं। 

ज़िंदगी की तल्खियां बढ़ गईं इसी से समझ लो , ज़हर बाज़ार में और महंगा हो गया। 

ज़िंदगी से बड़ी सज़ा ही नहीं , और क्या जुर्म है पता ही नहीं। 

ज़िंदगी अब बता कहां जायें , ज़हर बाज़ार में मिला ही नहीं। 

ज़िंदगी मौत तेरी मंज़िल है , दूसरा कोई रास्ता ही नहीं। 

जिस के कारण फसाद होते हैं , उसका कुछ अता पता ही नहीं। 

झूठ को सच करे हुए हैं लोग।  

   (  लोक सेतिया "तनहा"  )

झूठ को सच करे हुए हैं लोग ,
बेज़ुबां कुछ डरे हुए हैं लोग।

नज़र आते हैं चलते फिरते से ,
मन से लेकिन मरे हुए हैं लोग।

उनके चेहरे हसीन हैं लेकिन ,
ज़हर अंदर भरे हुए हैं लोग।

गोलियां दागते हैं सीनों पर ,
बैर सबसे करे हुए हैं लोग।

शिकवा उनको है क्यों ज़माने से ,
खुद ही बिक कर धरे हुए हैं लोग।

जितना उनके करीब जाते हैं ,
उतना हमसे परे हुए हैं लोग। 
   इक लघुकथा है ज़िंदगी जिसका शीर्षक है।  कोई हर बात पर मरने की बात करता था।  जब भी उसकी नाकामी पर बात होती जान देने की बात करता था। लोग घबराते किसी बात से निराश होकर अपनी जान ही नहीं गंवा दे। ख़ुदकुशी करना कोई कायरता नहीं है बड़े साहस की बात है , कायरता तो उसे कहते हैं जो ताकत से कमज़ोर को कत्ल किया करते हैं आंतकवादी हों डाकू लुटेरे या फिर लाशों पर वोटों की राजनीति करने वाले। गुनाह की दुनिया की असलियत यही है कि हर पल मौत का साया रहता है सर पर। मगर सब से बड़े कायर वो हैं जो कानून की आड़ में अपने अधिकारों का गलत इस्तेमाल कर किसी को मारते हैं झूठे एनकउंटर के नाम पर। इतिहास में दबी पड़ी हैं ऐसी बहुत कहानियां अगर राज़ खुल जाएं तो धरती पर भगवान कहलाने वालों का क्या होगा। बात निकली तो कहां तलक आई है , खुल गया राज़ तो रुसवाई ही रुसवाई है। आप चुप चाप पी जाओ हलाहल है ये बस यही आखिरी दवाई है।

No comments: