Wednesday, 9 April 2014

गबबर सिंह का दर्द ( हास-परिहास ) डा लोक सेतिया

गब्बर सिंह परेशान है , वह चुनाव कैसे हार गया। रामगढ़ वालों से उसको वोट क्यों नहीं दिये। उसने रामगढ़ के लिये क्या क्या नहीं किया , इतना विकास किया , तरह तरह के हथकंडे अपनाये , साम -दाम , दंड-भेद , सब-कुछ आज़माया , फिर भी कुछ भी काम न आया। सारे रामगढ़ में उसके भेदिये फैले हुए हैं , वो सब जीत पक्की बता रहे थे। ये अच्छा नहीं किया रामगढ़ की जनता ने , गब्बर सिंह के नाम को डुबो कर रख दिया। अब किस तरह राजधानी में बैठे लोग उसकी दहशत के कायल होंगे। गब्बर सिंह वो डायलॉग याद कर रहा है जो उसने अपने विरोधी के हाथ-पैर तुड़वाने के बाद बोले थे। निकल गई सारी हेकड़ी। मगर अब बात उल्टी हो गई है , गब्बर सिंह को मन ही मन डर लग रहा है कि कहीं रामगढ़ वालों को अपनी ताकत का पता चल गया तो उसका वहां रहना दुश्वार हो जायेगा। गब्बर सिंह ने सब कुछ तो किया था चुनाव में।
                जय और वीरू को ठाकुर से दोगुना पैसे देकर अपने साथ मिला लिया था। दोनों मिलकर उसका प्रचार कर रहे थे , बसंती भी गब्बर सिंह के लिये नाचती थी और वोट मांगती थी। उसके ठुमके देखने वाले भी खूब जमा होते थे हर दिन चुनावी सभाओं में। खुद ठाकुर भाग गया था उसका इलाका छोड़ कर और दूसरे प्रदेश से चुनाव लड़ रहा था। गब्बर सिंह को पूरा यकीन था बाकी सभी की ज़मानत तक ज़ब्त हो जायेगी , मगर खुद उसकी ही ज़मानत बच नहीं सकी थी। गब्बर सिंह को समझ आ गया था कि उसका दोस्त सांभा ठीक ही कहता था कि लोकतंत्र और चुनाव की बात करना खतरे से खाली नहीं है। जंगलराज में तानाशाही ही सही मार्ग है शासन करने का। वीरू ने तो शराब के नशे में एक सभा में ये ऐलान भी कर दिया था कि अगर उसको तानाशाह बना दो तो रामगढ़ की सारी गंदगी ही दूर कर सकता है। तब खुद गब्बर सिंह ने उसको समझाया था कि चुनावी राजनीति में ऐसी सच्ची बात अपनी ज़ुबान पर नहीं लाया करते। जानते तो रामगढ़ वासी भी हैं कि गब्बर का लोकतंत्र तानाशाही से भी खराब होगा।
                         हारने के बाद हारने के कारण खोजने का काम हो रहा है। गब्बर सिंह अपने दल के कार्यकर्ताओं से पूछ रहा है कि क्यों उन लोगों ने सही काम नहीं किया चुनाव में , उन्हें शराब , पैसा , गोला -बारूद सभी कुछ तो उपलब्ध करवाया था।  कहां उनका उपयोग नहीं किया गया , क्या चूक हुई है। गब्बर को लगता है जय-वीरू से गठबंधन करना भी उसको नुकसान दे गया है। वो दोनों गब्बर की जीत से अधिक ध्यान खुद अपने लिये राजनीति में जगह बनाने पर देते रहे हैं। चोर-डाकू जब अपराध जगत को छोड़ कर राजनीति में प्रवेश करते हैं तो उनकी ईमानदारी ख़त्म हो जाती है और कुछ भी कर सकते हैं। अब भविष्य में गब्बर को जय-वीरू पर नहीं अपनी बंदूक पर ही भरोसा करना चाहिए।
                                     गब्बर सिंह ने कब से अपना दल बना लिया था , लोकतंत्र लूट दल नाम से। अपना पहनावा बदल कर कब से शासन कर रहा था। देश भर में ज़मीन जायदाद , विदेश में बैंक खातों में करोड़ों का काला धन जमा कर चुका है। सत्ता में था तो लोग खुद बिना मांगे ही दे जाते थे , लूटने की ज़रूरत ही नहीं थी , मगर लगता रहता था कि दिन-दहाड़े लूटने का अपना ही मज़ा था। लेकिन वो सब कब का छूट गया है , मान लिया था कि अब तो उसका , उसके बाद उसके ही परिवार का शासन ही चलता रहेगा। अचानक गब्बर आकाश से ज़मीन पर आ गिरा है , संभलना कठिन हो रहा है। लगता है डाकू रहना ही ठीक था , अपने गिरोह के साथियों का ऐतबार तो था , यहां राजनीति में किसी पर भी भरोसा नहीं किया जा सकता। जाने कौन किधर से कैसा वार कर दे , आज का गब्बर डर रहा है , कहीं राजनीति के माहिर खिलाड़ी उसको ही न लूट लें।

No comments: