अक्तूबर 13, 2021

खेल-तमाशा बना लिया मकसद  { भटकते मुसाफ़िर } डॉ लोक सेतिया 

हर कोई सभी जगह यही दिखाई देता है  लोग नतमस्तक हैं ,  जाने किस किस को क्या क्या कहने लगे हैं। कभी कभी तो हद हो जाती है गुणगान करते कहने लगते हैं धन्य हैं वे माता-पिता जिन्होंने आपको जन्म दिया। ऐसे में विचार आता है कि उस व्यक्ति या ऐसे अन्य तमाम लोगों ने देश समाज विशेषकर सामान्य नागरिक के कल्याण की खातिर क्या महान कार्य किया है। सिर्फ राजनीति खेल अभिनय कारोबार में सफलता अर्जित करना खुद के लिए परिवार के लिए अच्छा हो सकता है देश समाज सामान्य नागरिक के लिए नहीं। चढ़ते सूरज को सलाम करना मानसिक दासता की निशानी होती है। आये दिन जाने पहचाने अजनबी व्यक्ति के वीडियो मिलते हैं झूमते नाचते गाते रंगरलियां मनाते , कोई नहीं जानता वास्तव में आनंद ख़ुशी महसूस करते हैं अथवा सिर्फ सामाजिक दिखावे को कुछ पल केवल आडंबर होता है। वास्तविक ख़ुशी मन से महसूस की जाती है उसका इश्तिहार नहीं बनाया जाता है। शोहरत पाना कदापि महान मकसद नहीं होता है और देश समाज दुनिया को शानदार बनाने में जीवन व्यतीत करने वाले कभी महलों में धन दौलत के मालिक बनकर नहीं रहते हैं बल्कि अपना जीवन अपने साधन सुविधाओं को न्यौछावर करते हैं लोककल्याण के लिए। ये हमारी सोच की आदर्श मूल्यों के प्रति कोई हीनभावना हो सकती है जो हम उनको मसीहा समझते हैं जिनसे किसी को कुछ भी मिलता नहीं अपितु जो सामन्य जन से बहुत कुछ पाकर ऐशो आराम से रहते हैं। कोई झूठ बेचता है बातों से बहलाता है भाषण देकर उल्लू बनाता है कोई योग आयुर्वेद को माध्यम बनाकर कारोबार करता है कोई फिल्म टीवी संगीत कला में लेखन में शोहरत मिलने पर खुद को इक बाज़ारी सामान बना मालामाल होता है। ये सभी खोखले किरदार हैं जिनको देश दुनिया मानवता की नहीं सिर्फ खुद की चिंता रहती है। 

ज़िंदगी की सार्थकता खुदगर्ज़ी पूर्वक आचरण करने में नहीं होती है सच्चे आदर्श नायक अपने लिए नहीं सबके लिए समानता और अधिकार के लिए कार्य करते हैं। जिनको सत्ता की भूख है नाम शोहरत अपने गुणगान की लालसा है वो खेल तमाशे दिखलाते हैं धनवान और ताकतवर कहलाने के लिए लालायित रहते हैं। समाज के लिए कार्य करने वाले लोग ढिंढोरा पीटने का काम नहीं करते कभी। ये हमारे विवेक की बात है कि हम क्या सोचते हैं , क्या किसी मनोरंजन खेल तमाशे झूठे संबोधन से हमारा रत्ती भर भी कल्याण हो सकता है। हर किसी को आदर्श मसीहा ईश्वर समझने वालों को आखिर निराशा ही मिलती है। आधुनिकता की होड़ में भागम-भाग में हम जीने का सलीका भुला बैठे हैं। अपने अंतर्मन की बात को नहीं समझते बस बाहरी परिवेश को सब कुछ समझने लगे हैं। शायद जिनके अभिनय डायलॉग भाषण पहनावा और भाव भंगिमा तौर तरीके हमको सम्मोहित करते हैं भले समझते हैं उनकी वास्तविकता से उल्ट है उनकी तरह बनने की चाहत में अपनी असलियत को खो बैठे हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं: