Thursday, 7 July 2016

कुछ भी ठीक नहीं है सरकार ( आलेख ) डॉ लोक सेतिया

भ्र्ष्टाचार की खबर नहीं होना ही काफी नहीं है , उसका नहीं होना साबित किया जाना भी ज़रूरी है। बिना देखे प्रचारित करना कि मिट गया है भ्र्ष्टाचार जनता को धोखे में रखना है। आम आदमी जब सरकारी दफ्तर जाता है कोई शिकायत लेकर क्या तब उसको न्याय मिलता है ? नहीं। तब हर अधिकारी यही चाहता है शिकायत करने वाले को किसी तरह निपटाया जाये न कि उसकी परेशानी दूर की जाये। उसको टाला जाये या कहा जाये कि यहां नहीं वहां जाओ , और उलझाया जाता रहे। अदालतों में जाकर देखो आम लोग कितने परेशान हैं मगर उनको सालों साल न्याय नहीं मिलता। पुलिस थाने की बात सब जानते हैं , वहां जो नहीं हो वही कम है। इस देश में नेता अफ्सर धनवान और ख़ास लोगों को शायद ही सही गलत की कोई परवाह होती है , क़ानून को ये इक अनावश्यक वस्तु मानते हैं जिसकी कोई कद्र नहीं है। अख़बार हों या टीवी वाले उनको भी रोज़ की छोटी मोटी रिश्व्त की बात बेमानी लगती है क्योंकि उनको ये कभी देनी नहीं पड़ती है। पत्रकारिता का तमगा आपको एक सुरक्षा कवच देता है ताकि कोई आपसे छोटी छोटी बात पर पैसा नहीं मांग सके। प्रेस शब्द लिखा होना आपकी कार को चलान से बचाता है और आपको आम से ख़ास बना देता है। पत्रकारिता के मायने बदल गये हैं , खबर की परिभाषा भी। अब कोई पत्रकार खबर को ढूंढ़ता नहीं है , खबरें उस तक खुद आती हैं , जिनको खबर छपवानी हो खुद दे जाते हैं।
        अब किसी सरकार को गरीब आम आदमी की चिंता नहीं है , जिसको हर दिन रोटी कमानी होती है वो कैसे न्याय पाने को बार बार सरकारी अफसरों की हाज़िरी लगाता रहे बिना कोई समाधान पाये। और कभी अधिकारी आये नहीं , कभी मीटिंग में व्यस्त हैं जैसे बहाने सुन निराश होता रहे। अभी केंद्र सरकार के कर्मचारियों का वेतन बढ़ाया गया है जो औसत आम आदमी की आमदनी से पचास गुणा अधिक है , चाहे उसको और भी बढ़ा दो तब भी उनको ये कभी काफी नहीं लगता। उनको तब भी ऊपर की कमाई चाहिए।
इतना वेतन पाकर भी ये लोग अपना काम ईमानदारी से करना नहीं चाहते , क्या ये देशद्रोह नहीं है ?
आज तक देश की जनता की हालत केवल इसी कारण नहीं सुधरी है क्योंकि पुलिस प्रशासन और नेताओं ने वो सब किया ही नहीं जो किया जाना था। विडंबना है इनको जो करना वो नहीं करने की कोई सज़ा ही नहीं मिलती है। किसी शायर ने भी कहा है :::::::::::::
               वो अगर ज़हर देता तो सबकी नज़र में आ जाता ,
              तो यूं किया कि मुझे वक़्त पर दवाएं नहीं दीं।
देश की जनता की भी बस इतनी ही शिकायत है , सरकार को जो करना था कभी किया ही नहीं। सब ठीक है के विज्ञापन हमेशा देखते रहे हैं लोग , सब ठीक हुआ नहीं कभी भी। कोई चाहता ही नहीं सब ठीक करना , उनकी कुर्सी उनके स्वार्थ कुछ भी ठीक नहीं होने से हैं।

No comments: