Wednesday, 16 April 2014

{ महिलाएं अवश्य पढ़ें } तेरे वादे पे ऐतबार किया ( हास-परिहास ) डा लोक सेतिया

आप मानो चाहे न मानो , सच तो सच है। पुरुष जब वादा निभाने की घड़ी आये तब पीछे हट जाते हैं और महिला अपनी जान तक गवा बैठती है। फिर भी आशिक कवियों ने , ग़ज़लकारों ने , अपनी प्रेमिका -माशूका पर वादा न निभाने के इल्ज़ाम बिना जाने समझे लगाये हैं। चलो आपको इक सच्ची बात बताते हैं। कोलकत्ता शहर में एक दम्पति ने तय किया कि साथ जीते रहे हैं चलो अब साथ-साथ मरते हैं। अपने प्यार की कसमें खाई और दोनों ने डूबने के लिये गंगा नदी में छलांग लगा दी। लेकिन तब भी दोनों साथ-साथ मर नहीं सके। पति महोदय मरने से डर गये और तैर कर बाहर निकल आये किनारे पर अपनी पत्नी को मझधार में अकेला छोड़ कर। पत्नी को तैरना नहीं आता था इसलिये उसको डूब कर जान गवानी पड़ी। ग़ज़ब किया तेरे वादे पे ऐतबार किया। जो अभी अभी खाई कसम न निभा सका उसकी सात जन्म साथ निभाने की कसम पर कौन यकीन करे। अनुभवी महिलायें हमेशा हर महिला को यही सीख देती हैं कि पुरुषों पर कभी भरोसा मत करना। ये अनुभव उनको ज़रूर किसी पुरुष की बेवफाई ने दिया होगा। पुरुष चांद तारे तोड़ लाने के वादे करते हैं और एक नई साड़ी तक नहीं ला देते मांगने पर। बावजूद इसके औरतों को अपने पति के बारे उम्र भर ये अंधविश्वास बना रहता है कि मेरे ये वैसे नहीं हैं। पति हर दिन देर से आने का कोई बहाना बनाता है और पत्नी मान लेती है। इक फिल्म की नायिका गीत गाती है , कभी हमारी मुहब्बत का इम्तिहान न लो , फिर आगे कहती है , मैं अगर जान भी दे दूं तो ऐतबार नहीं , कि तुझ से बढ़ के मुझे ज़िंदगी से प्यार नहीं। पति भी जानते हैं मीठी-मीठी बातों से बहलाना अपनी पत्नी को , जो तुमको हो पसंद वही बात कहेंगे , तुम दिन को अगर रात कहो रात , रात कहेंगे। मैंने भी यही गीत सुनाया था पहली रात को उनको , मगर सच तो ये है कि उन्हें हमेशा मुझसे शिकायत भी रही है कि बहुत मनमानी करता हूं। कोई न कोई कारण तो ज़रूर होगा उनकी शिकायत का , मगर हम भी जानते हैं उनको बातों से बहला लेना।
                                                    ये खबर पढ़कर एक पत्नी पीड़ित कहने लगे ये कमाल का फार्मूला है , न कोई क़त्ल का इल्ज़ाम न ही ख़ुदकुशी को विवश करने की तोहमत। उल्टा सभी उसके साथ सहानुभूति जता रहे होंगे , कैसे जियेगा बेचारा अकेला।  इसी बात पर कोई अपना दिल दे बैठे इनको और चार दिन में दूसरी मिल जाये फिर से साथ-साथ जीने-मरने की कसम खाने को क्या पता। वे भी सोचने लगे कि अपनी पत्नी को तैयार कर लेंगे एक साथ मरने को। उनको लगता है ये ख्याल उनको पहले आ जाता तो कभी का उस मुसीबत से छुटकारा पा लिया होता। सोचते सोचते उनको लगा किसे मालूम यही तरीका पहले भी कुछ लोग आज़मा चुके हों , चुपचाप खुद तैर कर बाहर निकल घर चले जाते हों और बाद में पत्नी की लाश पर आंसू बहाते हों। किसी को पता तक नहीं चल पाया हो कि उनकी पत्नी ने ख़ुदकुशी उन पर ऐतबार कर के ही की थी। इक आधुनिक प्रेम कथा और भी है आज के नये युग की। दो प्रेमियों को जब समाज और परिवार ने विवाह नहीं करने दिया तब उन्होंने भी साथ-साथ ख़ुदकुशी करने का निर्णय लिया और बाज़ार से ज़हर लाकर खा लिया।बेफिक्र होकर सो गये , सोचा ये नींद कभी नहीं खुलेगी। मगर आजकल बाज़ार में ज़हर तक नकली मिलता है , यही हुआ और वे बच गये। ऐसे मैं प्रेमी ने अपनी प्रेमिका को समझाया कि अपनी तकदीर में ही नहीं है साथ-साथ जीना-मरना। अब हमें अपनी ज़िद छोड़ तकदीर का फैसला मान लेना चाहिये , अपना अपना घर अलग-अलग बसा लेना चाहिये घर वालों की बात मानकर। अब दोनों प्रेमी खुश हैं अपने अपने घर में , और उनके परिवार वाले भी। क्या खबर नकली ज़हर लाना प्रेमी की चालाकी रही हो। जिसने भी साथ-साथ जीने-मरने की कसमें खाने का चलन शुरू किया होगा वो बहुत दूर की सोचने वाला रहा होगा। मेरे एक मित्र को तो वो गीत पसंद था , उतना ही उपकार समझ कोई जितना साथ निभा दे। जन्म-मरण का मेल है सपना ये सपना बिसरा दे। कोई न संग मरे , मन रे तू काहे न धीर धरे।
                        अब महिलायें उतनी भी सीधी नहीं रह गई हैं , अब वे इस बात का ध्यान रखेंगी कि उनका पति उनको चालाकी से तो नहीं डुबो रहा है। अगर पति को तैरना आता है तो साथ-साथ डूबने की बात मूर्ख बनाने के सिवा और क्या है। अब ऐसे में समझदार महिला अपने पति को पहले आप कह कर तसल्ली कर कर सकती हैं।

No comments: