Monday, 24 September 2018

इक गुलाबी रुमाल आया है ( ग़ज़ल ) डॉ लोक सेतिया "तनहा"

  इक गुलाबी रुमाल आया है ( ग़ज़ल ) डॉ लोक सेतिया "तनहा"

इक गुलाबी रुमाल आया है ,
बन के लेकिन सवाल आया है। 

दरो-दीवार सहमे सहमे हैं ,
जैसे घर में बवाल आया है। 

खेल सत्ता कई दिखाती है ,
ये तमाशा कमाल आया है। 

अब परिन्दे लगे समझने हैं ,
ले के सय्याद जाल आया है। 

गर्दिशे वक़्त और तुम देखो ,
इक नई चल के चाल आया है। 

खत ये लिक्खा हुआ गुलाबी है ,
जैसे होली-गुलाल आया है। 

आज "तनहा" निखार कलियों पे ,
देख फिर बेमिसाल आया है।  



No comments: