Tuesday, 9 July 2013

कुझ वी भावें होर बन्दे सौ वार ,,,, पंजाबी ग़ज़ल ( डॉ लोक सेतिया )

कुझ वी भांवें होर बंदे सौ वार बणना ,
झूठ वाला पर कदे नां अखबार बणना !
दुश्मनी करना बड़ा सौखा कम है लोको ,
पर बड़ा औखा है हुंदा दिलदार बणना !
राह मेरी रोक लैणा मैं भुल न जावां ,
मैं नहीं भुल के कदीं वी सरकार बणना !
लोक तैनूं जाणदे हन सौ झूठ बोलें ,
सिख नहीं सकिया किसे दा तूं यार बणना !
हर किसे दे नाल करदा हैं बेवफाई ,
कम अदीबां दा नहीं इक हथियार बणना !
नावं चंगा रख के कीते कम सब निगोड़े ,
सोच लै हुण छड वी दे दुहरी धार बणना  !
शौक माड़ा हर किसे दे दिल नूं दुखाणा ,
आखदे ने लोक मंदा हुशियार बणना  !  

No comments: