Monday, 8 July 2013

एक पंजाबी कविता ( मेरा पहला प्रयास ) 01 ( डॉ लोक सेतिया )

मंगण तां अग तू आई ते चुल्ले दी मालक बण बैठी ,
तैनू सी भैन बणाया मैं तू मेरी ही सौतण बण बैठी !
खसमां नूं अपणे खाण दी गंदी हे आदत वी तेरी ,
छडिया ना इक वी घर जिसने इनी डायन बण बैठी !
भौरा वी अपणे कीते ते आई न तैनू शरम कदे ,
तेरा हथ पकड़िया जिस जिस ने सभ दे सर चढ़ बैठी !
जाणदी एं की करदी हें अपणे आप नू वेखा है कदी ,
माड़े माड़े करमां नाल वेख आपणी झोली भर बैठी !
धुप विच जिस रुख ने तैनू ठंडी ठंडी छां सी दित्ती ,
अपणे हथां नाल अज कटदी हैं उसदी तू जड़ बैठी !
न कदे किसे दी होई तू छड आई एं सारियां नूं ,
किचड़ मिट्टी विच जा बैठी मिट्टी दे ढेले घढ़ बैठी !

No comments: