Sunday, 24 March 2013

ग़ज़ल 1 8 8 ( रोज़ इक ख्वाब मुझको आता है ) - लोक सेतिया "तनहा"

रोज़ इक ख्वाब मुझको आता है - लोक सेतिया "तनहा"

रोज़ इक ख़्वाब मुझको आता है ,
जो लिखूं मिट वो खुद ही जाता है।

कौन जाने कि उसपे क्या गुज़री  ,
दोस्त दुश्मन को जब बताता है।

आ गया फिर वही महीना जब   ,
दिल किसी का किसी पे आता है।

बस यही हर गरीब कर सकता ,
अश्क पीता है , ज़हर खाता है।

सिर्फ मतलब के रह गये रिश्ते  ,
क्या किसी का किसी से नाता है।

एक दुनिया नयी बसानी है   ,
ख़्वाब झूठे हमें दिखाता है।

बात तनहा अजीब कहता है  ,
मौत को ज़िंदगी बताता है। 

No comments: