Tuesday, 5 March 2013

ग़ज़ल 1 8 1 ( तुम्हारा सभी से बड़ा दोस्ताना ) - लोक सेतिया "तनहा"

तुम्हारा सभी से बड़ा दोस्ताना - लोक सेतिया "तनहा"

तुम्हारा सभी से बड़ा दोस्ताना ,
किसी रोज़ मिलने हमें भी तो आना।

हुई भूल कैसी ,जुदा हो गये हम ,
थे जब साथ दोनों समां था सुहाना।

यही इश्क होता है , मिलने को उनसे ,
बिना नाखुदा के नदी पार जाना।

निराली हैं कितनी अदाएं तुम्हारी ,
हमें देखना , हम से नज़रें चुराना।

कहा था मेरा हाथ हाथों में लेकर ,
किया आपने क्या ,पड़ा दिल लगाना।

हमें चांद तारों से मतलब नहीं था ,
उन्हें देखने का था बस इक बहाना।

महीवाल सोहनी मिले आज फिर से ,
हुआ प्यार "तनहा" कभी क्या पुराना।

No comments: