Monday, 25 February 2013

ग़ज़ल 1 7 8 ( जनाज़े पे मेरे तुम्हें भी है आना ) - लोक सेतिया "तनहा"

जनाज़े पे मेरे तुम्हें भी है आना - लोक सेतिया "तनहा"

जनाज़े पे मेरे तुम्हें भी है आना ,
नहीं भूल जाना ये वादा निभाना।

लगे प्यार करने यकीनन किसी को ,
कहां उनको आता था आंसू बहाना।

तुम्हें राज़ की बात कहने लगे हैं ,
कहीं सुन न ले आज ज़ालिम ज़माना।

बनाकर नई राह चलते रहे हैं ,
नहीं आबशारों का कोई ठिकाना।

हमें देखना गांव अपना वही था ,
यहां सब नया है, नहीं कुछ पुराना।

उन्हें घर बुलाते, थी हसरत हमारी ,
कसम दे गये, अब हमें मत बुलाना।

मिले ज़िंदगी गर किसी रोज़ "तनहा" ,
मनाकर के लाना , हमें भी मिलाना।

No comments: