Friday, 25 January 2013

ग़ज़ल 1 4 7 ( हमें भी है जीना , नहीं रोज़ मरना ) - लोक सेतिया "तनहा"

हमें भी है जीना , नहीं रोज़ मरना - लोक सेतिया "तनहा"

हमें भी है जीना ,नहीं रोज़ मरना ,
ज़माना करे अब उसे जो है करना।

सियासत तुम्हारी मुबारिक तुम्हीं को ,
नहीं अब हमें हुक्मरानों से डरना।

लगे झूठ को सच बताने सभी अब ,
अगर सच कहेंगे सभी को अखरना।

किनारे उन्हीं के थी पतवार उनकी ,
हमें था वहां बस भंवर में उतरना।

बुझाते कभी प्यास पूरी किसी की ,
पिलाना अगर अब सभी जाम भरना।

लुभाना पिया को सभी चाहते हैं ,
है मालूम किसको हो कैसे संवरना।

हैं दुश्मन यहां सब नहीं दोस्त कोई ,
कभी भी यहां पर न "तनहा" ठहरना।  

No comments: