Sunday, 23 December 2012

अलविदा पुरातन स्वागतम नव वर्ष ( कविता ) 7 7 भाग दो ( डॉ लोक सेतिया )

अलविदा पुरातन वर्ष ,
ले जाओ साथ अपने ,
बीते वर्ष की सभी ,
कड़वी यादों को ,
छोड़ जाना पास हमारे ,
मधुर स्मृतियों के अनुभव।
करना है अंत ,
तुम्हारे साथ ,
कटुता का देश समाज से ,
और करने हैं समाप्त  ,
सभी गिले शिकवे ,
अपनों बेगानों से ,
अपने संग ले जाना ,
स्वार्थ की प्रवृति को ,
तोड़ जाना जाति धर्म ,
ऊँच नीच की सब दीवारें। 
इंसानों को बांटने वाली ,
सकुंचित सोच को मिटाते जाना  ,
ताकि फिर कभी लौट कर ,
वापस न आ सकें ये कुरीतियां ,
तुम्हारी तरह ,
जाते हुए वर्ष ,
अलविदा !!
स्वागतम नूतन वर्ष  ,
आना और अपने साथ लाना ,
समाज के उत्थान को ,
जन जन के कल्याण को ,
स्वदेश के स्वाभिमान को ,
आकर सिखलाना सबक हमें ,
प्यार का भाईचारे का ,
सत्य की डगर पर चलकर ,
सब साथ दें हर बेसहारे का ,
जान लें भेद हम लोग ,
खरे और खोटे का ,
नव वर्ष ,
मिटा देना आकर ,
अंतर ,
तुम बड़े और छोटे का !! 

No comments: