Friday, 21 December 2012

ग़ज़ल 9 7 ( गये भूल हम जिंदगानी की बातें ) - लोक सेतिया "तनहा"

गए भूल हम ज़िन्दगानी की बातें - लोक सेतिया "तनहा"

गए भूल हम ज़िन्दगानी की बातें ,
सुनाते रहे बस कहानी की बातें।

तराशा जिन्हें हाथ से खुद हमीं ने ,
हमें पूछते अब निशानी की बातें।

गये डूब जब लोग गहराईयों में ,
तभी जान पाये रवानी की बातें।

रही याद उनको मुहब्बत हमारी ,
नहीं भूल पाये जवानी की बातें।

हमें याद सावन की आने लगी है ,
चलीं आज ज़ुल्फों के पानी की बातें।

गये भूल देखो सभी लोग उसको ,
कभी लोग करते थे नानी की बातें।

किसी से भी "तनहा" कभी तुम न करना ,
कहीं भूल से बदगुमानी की बातें। 

No comments: