Friday, 14 December 2012

ग़ज़ल 1 6 7 ( दर्द को चुन लिया ज़िंदगी के लिये ) - लोक सेतिया "तनहा"

दर्द को चुन लिया ज़िंदगी के लिये - लोक सेतिया "तनहा"

दर्द को चुन लिया ज़िंदगी के लिये  ,
और क्या चाहिये शायरी के लिये।

उसके आंसू बहे , ज़ख्म जिसको मिले ,
कौन रोता भला अब किसी के लिये।

जी न पाये मगर लोग जीते रहे ,
सोचते बस रहे ख़ुदकुशी के लिये।

शहर में आ गये गांव को छोड़ कर ,
अब नहीं रास्ता वापसी के लिये।

इस ज़माने से मांगी कभी जब ख़ुशी ,
ग़म हज़ारों दिये इक ख़ुशी के लिये।

तब बताना हमें तुम इबादत है क्या ,
मिल गया जब खुदा बंदगी के लिये।

आप अपने लिए जो न "तनहा" किया ,
आज वो कर दिया अजनबी के लिये।     

No comments: