Thursday, 27 December 2012

ग़ज़ल 1 0 4 ( जब हुई दर्द से जान पहचान है ) - लोक सेतिया "तनहा"

 जब हुई दर्द से जान पहचान है - लोक सेतिया "तनहा"

जब हुई दर्द से जान पहचान है ,
ज़िंदगी तब हुई कुछ तो आसान है।

क़त्ल होने लगे धर्म के नाम पर ,
मुस्कुराने लगा देख हैवान है।

कुछ हमारा नहीं पास बाकी रहा ,
दिल भी है आपका आपकी जान है।

चार दिन ही रहेगी ये सारी चमक ,
लग रही जो सभी को बड़ी शान है।

लोग अब ज़हर को कह रहे हैं दवा ,
मौत का ज़िंदगी आप सामान है।

उम्र भर कारवां जो बनाता रहा ,
रह गया खुद अकेला वो इंसान है।

हम हुए आपके, आके "तनहा" कहें ,
बस अधूरा यही एक अरमान है।  

No comments: