Thursday, 1 November 2012

अपने ही संग ( कविता ) 6 7 भाग दो ( डॉ लोक सेतिया )

अपने ही संग ( कविता ) डॉ लोक सेतिया

रुको जानो स्वयं को ,
किसलिए खो बैठे हो ,
अस्तित्व अपना ,
भागते रहोगे कब तक ,
झूठे सपनों के पीछे तुम।

देखो ,कोई पुकार रहा है ,
आज तुम्हें ,
तुम्हारे ही भीतर से ,
तलाश करो कौन है वो ,
मिलेगा तुम्हें नया सवेरा ,
नई मंज़िल ,
एक नया क्षितिज ,
एक किनारा।

देखो तुम्हारे अंदर है ,
परिंदा एक जो व्याकुल है ,
गगन में उड़ने के लिये ,
स्वयं को स्वतंत्र कर दो ,
निराशा के इस पिंजरे से ,
फिर से इक बार करो  ,
जीने की नई पहल।

भुला कर दुःख दर्द को ,
खोलो खुशियों का दरवाज़ा ,
छुड़ा अपना दामन ,
परेशानियों से ,
सजा लो अधरों पर मुस्कान।

पौंछ कर ,
अपनी पलकों के आंसू ,
आरम्भ करो फिर से जीना ,
अपने ढंग से ,
अपने ही लिये।

देखना कोई ,
होगा हर कदम ,
साथ साथ तुम्हारे ,
नज़र आये चाहे  नहीं ,
करते रहना ,
उसके करीब होने का ,
आभास पल पल तुम।

No comments: