Sunday, 9 September 2012

ग़ज़ल 2 9 ( चल रहे हैं धूप में छाया करो ) - लोक सेतिया "तनहा"

चल रहे हैं धूप में छाया करो - लोक सेतिया "तनहा"

चल रहे हैं धूप में छाया करो ,
गेसुओं को हमपे लहराया करो।

जैसे सूरज को छिपाती है घटा ,
उस तरह आंचल का तुम साया करो।

और भी हो जाएंगे पत्ते हरे ,
प्यार की शबनम से नहलाया करो।

प्यास के मारों को तुम झरना बनो ,
यूं न दरिया बन के बह जाया करो।

तिनके चुन चुन कर बने हैं घौंसले ,
बिजलियो उनपर तरस खाया करो।

No comments: