Monday, 27 August 2012

ग़ज़ल 5 4 ( महफ़िल में जिसे देखा तनहा-सा नज़र आया ) - लोक सेतिया "तनहा"

महफ़िल में जिसे देखा तनहा-सा नज़र आया -लोक सेतिया "तनहा"

महफ़िल में जिसे देखा तनहा-सा नज़र आया
सन्नाटा वहां हरसू फैला-सा नज़र आया।

हम देखने वालों ने देखा यही हैरत से ,
अनजाना बना अपना ,बैठा-सा नज़र आया।

मुझ जैसे हज़ारों ही मिल जायेंगे दुनिया में ,
मुझको न कोई लेकिन ,तेरा-सा नज़र आया।

हमने न किसी से भी मंज़िल का पता पूछा ,
हर मोड़ ही मंज़िल का रस्ता-सा नज़र आया।

हसरत सी लिये दिल में ,हम उठके चले आये ,
साक़ी ही वहां हमको प्यासा-सा नज़र आया।  

No comments: