Wednesday, 22 August 2012

ग़ज़ल 4 6 ( कहीं न कह दें दिल की बात ) - लोक सेतिया "तनहा"

कहीं न कह दें दिल की बात - लोक सेतिया "तनहा"

कहीं न कह दें दिल की बात ,
बन जाये महफ़िल की बात।

डूब गई अश्कों के ,
सागर में साहिल की बात।

मिलती नहीं ये मांगे से ,
मौत बड़ी मुश्किल की बात।

एक ज़माना कातिल है ,
किससे कहें कातिल की बात।

ज़हन में भूले भटकों के,
उतर गई मंजिल की बात।

कहीं न लब पर आ जाये  ,
मदहोशी में दिल की बात।

पायल की छमछम में भी ,
होती है दर्दे दिल की बात।

No comments: