Tuesday, 21 August 2012

ग़ज़ल 14 ( फिर कोई कारवां बनायें हम ) - लोक सेतिया "तनहा"

फिर कोई कारवां बनायें हम - लोक सेतिया "तनहा"

फिर कोई कारवां बनायें हम ,
या कोई बज़्म ही सजायें हम।

छेड़ने को नई सी धुन कोई ,
साज़ पर उंगलियां चलायें हम।

आमदो रफ्त होगी लोगों की ,
आओ इक रास्ता बनायें हम।

ये जो पत्थर बरस गये  इतने ,
क्यों न मिल कर इन्हें हटायें हम।

है अगर मोतिओं की हमको तलाश ,
गहरे सागर में डूब जायें  हम।

दर बदर करके दिल से शैतां को ,
इस मकां में खुदा बसायें  हम।

हुस्न में कम नहीं हैं कांटे भी ,
कैक्टस सहन में सजायें  हम।

हम जहाँ से चले वहीँ पहुंचे ,
अपनी मंजिल यहीं बनायें हम।

No comments: