Sunday, 19 August 2012

है शहर में बस धुआं धुआं ( नज़्म ) डॉ लोक सेतिया = 1 5 भाग एक

है शहर में बस धुआं धुंआ - लोक सेतिया "तनहा"

है शहर में बस धुआं धुआं ,
न रौशनी का कोई निशां।

ये पूछती है नज़र नज़र ,
है आदमी का कोई निशां।

समझ सके जो यहाँ है कौन ,
ज़रा सी इक बच्ची की जबां।

कहीं भी दिल लगता ही नहीं ,
जो कोई जाये भी तो कहाँ।

सुनाएँ कैसे किसी को हम ,
इक उजड़े दिल की ये दास्ताँ। 

No comments: