Sunday, 12 August 2012

ग़ज़ल 1 1 5 ( हम पुरानी लकीरें मिटाते रहे ) - लोक सेतिया "तनहा"

हम पुरानी लकीरें मिटाते रहे - लोक सेतिया "तनहा"

हम पुरानी लकीरें मिटाते रहे ,
कुछ नये  रास्ते खुद बनाते रहे।

आशियाँ इक बनाया था हमने कहीं ,
उम्र भर फिर उसे हम सजाते रहे।

हर ख़ुशी दूर हमसे रही भागती ,
हादसे साथ अपना निभाते रहे।

तुम भी मदहोश थे हम भी मदहोश थे ,
दास्ताँ फिर किसे हम सुनाते रहे।

ख्वाब देखे कई प्यार के रात भर ,
जब खुली आँख सब टूट जाते रहे।

इक ग़ज़ल आपकी क्या असर कर गई ,
हम उसे रात दिन गुनगुनाते रहे।

जा रहे हैं मगर फिर मिलेंगे कभी ,
दीप आशा के "तनहा" जलाते रहे।      

No comments: