Tuesday, 21 August 2012

ग़ज़ल 0 4 ( भीगा सा मौसम हो और हम हों ) - लोक सेतिया "तनहा"

भीगा सा मौसम हो और हम हों - लोक सेतिया "तनहा"

भीगा सा मौसम हो और हम हों ,
भूला हुआ हर ग़म हो और हम हों।

फूलों से भर जाये रात रानी  ,
महकी हुई पूनम हो और हम हों।

झूल के झूले में आकाश छू लें   ,
रिमझिम की सरगम हो और हम हों।

भूली बिसरी बातें याद करके  ,
चश्मे वफा पुरनम हो और हम हों।

आकर जाने की सुध बुध भुलायें  ,
थम सा गया आलम हो और हम हों।

आओ चलें हम उन तनहाइयों में ,
जिन में सुकूं हरदम हो और हम हों।

मिल न सकें तो मौत ही हमको आये ,
रूहों का संगम हो और हम हों।

No comments: