Sunday, 8 July 2012

ग़ज़ल - 2 ( नया दोस्त कोई बनाने चले हो ) - लोक सेतिया "तनहा"

नया दोस्त कोई बनाने चले हो - लोक सेतिया "तनहा"

नया दोस्त कोई बनाने चले हो ,
फिर इक ज़ख्म सीने पे खाने चले हो।

न टकरा के टूटे कहीं शीशा ए दिल ,
ये पत्थर को क्यों तुम मनाने चले हो।

उसी शाख पर जिसपे बिजली गिरी थी ,
नया आशियाँ क्यों बसाने चले हो।

यकीं कर के मौजों पे अपना सफीना ,
कहाँ बीच मझधार लाने चले हो।

छिपे हैं गुलों में हजारों ही कांटे ,
कि जिनसे घर अपना सजाने चले हो।

सितमगर हैं नश्तर से वो काम लेंगे ,
जिन्हें दागे-दिल तुम दिखाने चले हो।

ये हंसने हंसाने की तुम चाह लेकर ,
कहाँ आज आँसू बहाने चले हो।

No comments: