Tuesday, 10 July 2012

चुभन ( कविता ) 0 2 भाग दो ( डॉ लोक सेतिया )

  2            चुभन ( कविता ) डॉ लोक सेतिया 

धरती ने
अंकुरित किया
बड़े प्यार से उसे ,
किया प्रस्फुटित
अपना सीना चीर कर ,
बन गया धीरे धीरे
हरा भरा पौधा ,
उस नन्हें बीज से।

फसल पकने पर
ले गया काट कर ,
बन कर स्वामी
डाला था जिसने बीज ,
धरती में ,
और धरती को मिलीं
मात्र कुछ जडें
चुभती हुई सी।

अपनी कोख में
हर संतान को
पाला माँ ने , 
मगर मिला उन्हें सदा
पिता का ही नाम ,
जो समझता रहा खुद को
परिवार का मुखिया ,
घर का मालिक।

और हर माँ ,
सहती रही
कटी हुई जड़ों की ,
चुभन के  दर्द को
जीवन पर्यन्त।

No comments: